WOH CHALI GAYI

0
946303639132
Woh chali gayi by shayarix
Woh chali gayi by shayarix

WOH CHALI GAYI – ye dard bhari sad shayari ek broken heart ladke ke dil ke jazbat hain jinhe wo pyar me dhokha khane ke baad bayan kr raha hai…

Woh Chali Gayi 2019 Hindi

अपने हाल पर नहीं उसका हाल सोचकर रोना आता है…
एक शख्स के जाने भर से जिंदगी का हर लम्हा सुना हो जाता है…

वो थी तो बारिश, बहार पतझड़ थी…
उसके बाद अब कहाँ कोई मौसम मुझे लुभाता है…

जो सिर्फ मेरा था आज किसी और का होने लगा है…
दर्द यही है जो मुझे रातों को जगाता है…

मैं तो पत्थर था उसके आने से पहले…
मगर नहीं जनता था की “हुस्न की मार से पत्थर भी टूट जाता है…”

जो कभी मेरी एक छींक से भी घबरा जाया करता था…
आज वही है जो सबसे ज्यादा मुझे सताता है….

मैं कभी था हर गम ख़ुशी में साथी उसका…
आज वो मुझे अपना सबसे बड़ा दुश्मन बताता है….

हज़ार ऐब हों उस बेवफ़ा में चाहे…
मगर उसका ना होना मुझे बहुत रुलाता है…

वो फूल सा था जिसे मैंने दिल से महोब्बत की थी…
आज वही फूल कांटे की तरह मेरे सीने चुभ जाता है…

जो कभी घन्टों छत पर करता था इंतजार मेरी एक झलक पाने का…
आज मुझे देख कर अपना चेहरा घुमाता है…

वो लाल जोड़े में सजी है और मै कफ़न में लिपटा हुवा हूँ…
बस यही भयानक ख्वाब है जो हर रात मुझे आता है…

वो चली गयी मगर मौत ना लेने आयी मुझे…
खुदा भी ना जाने कैसी कैसी सजा सुनाता है…

कभी हमराज़ हुवा करता था मेरा…
आज हर बात वो मुझसे छुपता है….

भले उसने जाते हुवे मुझ पर लाख़ सितम किये हों…
मगर ना जाने क्यों दिल आज भी उसके लिए दुवा कर जाता है….

Woh Chali Gayi New shayari in Hindi

Apne haal par nahi uska haal soch kar rona aata hai…
Ek shakhs ke jane bhar se zindagi ka har lamha suna ho jata hai…

Wo thi to barish, bahar patjhad thi…
Uske baad ab kahan koi mausam mujhe lubhata hai…

Jo sirf mera tha aaj kisi aur ka hone laga hai…
Dard yahi hai jo mujhe raaton ko jagata hai…

Main to patthar tha uske aane ke pahle…
Magar nahi janta tha husan ki maar se patthar bhi toot jata hai…

Jo kabhi meri ek chkink se bhi ghabra jaya karta tha…
Aaj wohi hai jo sabse zyada mujhe satata hai….

Main kabhi tha har gum khushi me sathi uska…
Aaj wohi mujhe apna sabse bada dushman batata hai…

Hazar aib hon us bewafa me chahe… 
Magar uska naa hona mujhe bahut rulata hai….

Wo phool sa tha jise maine dil se mohabbat ki thi…
Aaj wohi phool kante ki tarah mere sine me chubh jata hai…

Jo kabhi ghanton chat par karta tha intzar meri jhalak pane ka…
Aaj mujhe dekh kar apna chehra ghumata hai…

Wo lal jode me saji hai aur main kafan me lipata hua hun….
Bas yahi bhayanak khwab hai jo har raat mujhe aata hai…

Wo chali gayi magar maut na lene aayi mujhe…
Khuda bhi naa jaane kaisi kaisi saza sunata hai….

Kabhi humraz hua karta tha mera… 
Aaj har baat wo mujhse chhupata hai….

Bhale usne jaate huye mujh par lakh sitam kiye hon…
Magar na jaane kyun dil aaj bhi uske liye dua kar jata hai….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here