WOH BEWAFA HAI | One sided poetry in hindi | Shayarix

WOH BEWAFA HAI – ye shayari ek broken heart ladke ke liye hai jiski gf use chor kr chali gayi hai aur kisi aur se shadi kar rahi hai.. ye shayari us l

WOH HAATH TUMHARE HI THE | Emotional hindi poetry by shayarix | Trittya yelane
BREAKUP KE BAAD | Poetry by trittya yelane | Sad love story
MERE PYAR KA KHOON | heart touching sad breakup shayari | shayarix 2.0

WOH BEWAFA HAI – ye shayari ek broken heart ladke ke liye hai jiski gf use chor kr chali gayi hai aur kisi aur se shadi kar rahi hai.. ye shayari us ladke ke dil ke jazbat hain….

WOH BEWAFA HAI IN HINDI

उसके दर्द को बिना कहे जान देता था मै…
उसकी हर बात को हंस कर मान लेता था मै…

ना जाने क्या खता हवी है जो वो मुझसे नाता तोड़ गयी…
ऐसी कौन सी गलती की मैंने जिसके लिए वो मेरा साथ छोड़ गयी…

अजीब खेल भी इस क़िस्मत ने खेला है…
ना चाहते हुवे भी मुझे इस दलदल में धकेला है…

मुझे दी है सजा उस गलती की जो मैंने किया ही नहीं…
ये महोब्बत का झमेला भी जान बूझ कर मैंने अपने सर पर लिया भी नहीं…

उसी ने मुझे अपने प्यार में फसाया और फिर बीच राह में छोड़ दिया…
मेरे नादान से इस दिल को बड़ी बेरहमी से टुकड़ों में तोड़ दिया….

वो आज अपने सजन की बारात का इंतजार कर रही होगी…
इधर “मै कुछ कर ना लूँ बुरा” ये सोच कर मेरी माँ डर रही होगी…

वो ख़ुशी से फूली ना समां रही होगी अपनी शादी का दिन नजदीक आता देख…
जो कभी कहती थी सातों जनम के लिए लिखे हैं तेरे मेरे लेख…

लाल जोड़ा भी बड़ी पसंद से उसने अपने लिए सिलवाया होगा…
इस बीच उस बेवफ़ा को मेरा ख्याल भी कहाँ आया होगा….

बहुत अजीब खेल खेलती है ये क़िस्मत भी कभी…
जिनके लिए छोड़ी दुनिया बेवफ़ा निकले हैं वही सभी…

उसकी डोली जब इधर से गुजरे तो कहना की मै भी पीछे आ रहा हूँ…
उसकी खूबसूरती को सब कुछ समझ कर महोब्बत करने की सजा पा रहा हूँ….

WOH BEWAFA HAI IN ENGLISH

Uske dard ko bina kahe jaan leta tha mai…
Uski har baat ko hans kar maan leta tha mai….

Na jane kya khta huvi hai jo wo mujhse naata tod gayi…
Aisi kaun si galti ki maine jiske liye wo mera sath chodd gayi…..

Ajeeb khel bhi is kismet ne khela hai…
Naa chahte huye bhi mujhe is daldal me dhakela hai….

Mujhe di hai saza us galti ki jo maine kiya hi nahi…
Ye mohabbat ka jhamela bhi jaan boojh kar maine apne sar pr liya bhi nahi…

Usi ne mujhe apne pyar me fansaya aur fir beech raah me chhod diya…
Mere nadan se is dil ko badi berahmi se tukdon men tod diya….

Aaj wo apne sajan ki barat ka intzar kar rahi hogi…
Idhar ‘Main kuchh kar naa lun bura’ ye soch kar meri maa dar rahi hogi…

Wo khushi se fooli na sama rahi hogi apni shadi ka din najdeek aata dekh…
Jo kabhi kehti thi saton janm ke liye likhe hain tere mere lekh…

Laal joda bhi badi pasand se usne apne liye silwaya hoga…
Is beech us bewafa ko mera khyal bhi kahan aaya hoga…

Bahut ajeeb khel khelti hai ye kismet bhi kabhi…
Jinke liye chhodi duniya bewafa nikale hain wohi sabhi….

https://shayarix.in/main-ussey-bohat-chahati-hoon/

Uski doli jab idhar se guzare to kahna main bhi peechhe aaraha hun…
Uski khoobasoorati ko sab kuchh samajh kar mohabbat karne ki saza paa raha hun…

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: