MAIN THIK HOON

0
1990264826450
Main thik hoon by shayarix
Main thik hoon by shayarix

MAIN THIK HOON | Best sad poetry – ye shayari ek heart borken ladke ke dil ke jazbat hai. jo apni girlfriend ke naam bayan kr raha hai. uske wapas laut ane ki gujarish kr raha hai…

Main thik hoon in hindi

मै ठीक हूँ.. सबसे मै यही कहता हूँ….
मुस्कुराता हूँ सबके सामने मै मगर अन्दर से हर वक्त रोता हूँ…

लगता है ऐसे जैसे तुमने मेरा नाम पुकारा हो…
तुम्हारी डीपी को देखता हूँ तो मेरा दिल कहता है मुझसे जैसे ये कोई मेरे लिए इशारा हो…

तेरे जाने से लगता है जैसे मेरा सब कुछ खो सा गया है…
मै हसना भूल बैठा हूँ और ये दर्द मेरा अपना हो सा गया है….

ऐसा पहले तो नहीं था…
मै हर वक्त रहता बिलकुल सही था….

मै अब महफ़िलों में नहीं पढ़ पता नगमे…
नहीं बनायी जाती हैं अब मुझसे प्यार भरी ग़ज़लें…

मै सारा दिन झूठा हंसने के बाद सारी रात जी भर के रोता हूँ…
रखता हूँ महफ़िलों का भ्रम बेशक़ मगर अन्दर से हर वक्त उदास होता हूँ…

तुम्हारे लौट आने के इंतजार में पलकें बूढी होती जा रही हैं…
अपने जवानी के पड़ाव में ही लगता है जैसे मेरी मौत आ रही है….

तेरा चेहरा जो ख्यालों में आ जाता है कभी….
ना जाने क्यों पलकें हो जाती हैं अपने आप ही गीली…

बोलते बोलते ही अब मै रुक जाया करता हूँ…
पहले तन कर खड़ा रहता था आज किसी दरख्त की तरह झुक जाया करता हूँ….

मेरी आँखों से बहता लहूँ मेरी माँ अब देख नही पाती है…
वो जानती है की मुझे तेरी याद बहुत आती है….

नींद से उठ कर मै तेरा नाम पुकारा करता हूँ…
तेरे ना आने का ख्याल सोच कर ही मै डर जाया करता हूँ….

यहाँ कोई नहीं जो तेरी तरह मेरे दर्द को जान पाए….
तुझे फिर से पाने के लिए कसम से मेरी जान जाये…

मै तुझे कितना मानता हूँ शायद ये तू नहीं जानती है….
मैंने अपना समझ तुझे कुछ कहा पर तू शायद मुझे अपना नहीं मानती है….

मै तरस गया हूँ तुम्हारी डांट सुनने के लिए…
तुम वापस लौट आओ ना फिर से हमारे उन्ही सपनो को बुनने के लिए….

Main thik hoon in english

Main thik hoon… Sabse main yahi kehta hun…
Muskurata hun sabke samne main.. Magar andar se har waqt rota hun…

Lagta hai aise jaise tumne mera naam pukara ho…
Tumhari dp ko dekhta hun to mera dil kehta hai jaise ye koi mere liye ishara ho….

Tere jane se lagta hai jaise mera sab kuch kho sa gya hai….
Mai hasna bhool baitha hun aur ye dard mera apna ho sa gya hai….

Aisa pahle to nahi tha…
Main har waqt rahta bilkul sahi tha…

Main ab mahfilon me nahi padh pata nagme…
Nahi banayi jati hain ab mujhse pyar bhari gazlen…

Main sara din jhootha hansne ke baad Saari raat jee bhar ke rota hun… 
Rakhta hun mahfilon ka bharam beshaq Magar andar se har waqt udas hota hun…

Tumhare laut aane ke intzaar me palken budhi hoti jaa rahi hain…
Apne jawani ke padav me hi lagta hai jaise meri maut a rahi hai….

tera chehra jo khayalon me aajata hai kabhi…
Naa jane kyun palken ho jaati hain apne aap hi geeli….

bolte bolte hi ab main ruk jaya karta hun…
Pehle tan kar khada rehta tha aaj kisi budhe darakht ki tarah jhuk jaya karta hun…

meri aankhon se bahta lahun meri maa ab dekh nahi pati hai…
wo janti hai ki mujhe teri yaad bahut aati hai….

neend se uth uth kar main tera naam puakara karta hun…
tere naa aane ka khyal soch kar hi main dar jaya karta hun…

yaha koi nahi jo teri tarah mere dard ko jaan paye…
tujhe phir se pane ke liye kasam se meri jaan jaye…

mai tujhe kitna manta hu shayad ye tu nahi janti hai…
Maine apna smjh tujhe kuchh kaha par tu shayad mujhe apna nhi manti hai…

Main taras gya hun tumhari daant sunne k liye…. 
Tum Wapas laut awo na fir se haamre un sapno ko bunnne ke liye….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here