Kuch Guzaarishen Hai Meri

0
1990264826431
Kuch Guzaarishen Hai Meri by shayarix
Kuch Guzaarishen Hai Meri by shayarix

कौन जाने इन पापियों की आत्मा कहाँ सोती होगी… ना हो किसी की बहन बेटी, माँ जरुर होती होगी…
अरे ये नीच हरकत करने वालों सुन लो…
कोई रोये ना रोये तुमपे तुम्हारी माँ जरुर रोती होगी…..

Justice for twinkle sharma

कुछ गुजारिशें हैं मेरी…
कुछ मांगना मुझे तुमसे है…

कुछ बातें तुमसे हैं कहनी…
कुछ चाहता मै तुमसे हूँ…

मैं हर एक वादा निभाऊंगा…
जो कहा तुमे वो सब दिलाऊंगा…

तुम जान हो मेरी… मैं तुम्हारे कहे पर मर जाऊंगा…

हमें हमेशा के लिए एक होना है…
तभी तो सपने हम हैं देख रहे…

मैंने वादा किया है सपने निभाने का…
उन्हें हर हाल में मैं निभाऊंगा….

बस एक बात मेरी मान लो…
जो कह रहा हूँ उसे जान लो…

मैं नहीं दे पाउँगा तुम्हे नन्ही पारी…
मुझे बेटी अब नहीं चाहिए…

हाँ मुझे याद है किया वादा था…
एक बेटा और बेटी होगी हमारा इरादा था…

मगर अब मैंने मन बदल दिया…
बहुत समझ कर ये फ़ैसला है लिया…

मुझे तो बच्चा भी नही चाहिए…
ना मंजूर हो तो बेशक़ जाइये…

मगर मैं अब हूँ फ़ैसला के चुका…
खुद को हूँ मैं वादा दे चुका…

तुम पूछती हो ऐसा क्यों ?
तुम चाहती हो मै तुम्हे उसकी वजह दूँ….

तो सुनो क्या है चल रहा….
मेरे ज़ेहन में क्या पल रहा….

मैं नहीं चाहता मेरी फूल सी
एक सुन्दर सी कोई बेटी हो…

जिसे बड़े नाजों से पालूं मै…
हौले हाथों से संभालूं मैं….

और एक दिन कोई दरिंदा उसे
उठा ले जाये आयर नोच दे…

मैं ना सह सकूँगा इस जुर्म को…
उसी वक्त मुझे जायेगा कुछ हो…

और बेटा नहीं मुझे चाहिए
जिसकी किसी की बेटी पर बुरी निगाह हो…

जो बन जाये उन हैवानों सा…
जिनसे नफ़रत हूँ मै कर रहा…

मैं ना सुन सकूँगा चीखें उसकी…
मैं ना हर वक्त निगरानी रख पाउँगा…

मेरी फूल से बच्ची को कुछ हुवा…
मैं जीते जी मर जाऊंगा….

#JusticeForTwinkleSharma

Kuch guzaarishen hain meri…
Kuch mangna mujhe tumse hai….

Kuch baaten tumse hain kahni…
Kuch chahta main tumse hun….

Main har ik wada nibhaunga…
Jo kaha tumhe wo sab dilaunga…..

Tum jaan ho meri…
Main tumhare kahe pe mar jaunga….

Hame hamesha ke liye ek hona hai…
Tabhi to sapne hum hain dekh rahe…

Maine wada kiya hai sapne nibhane ka…
Unhe har hal me main nibhaunga…

Bas ek baat meri maan lo…
Jo kah raha hun use jaan lo….

Main nahi de paunga tumhe nanhi pari…
Mujhe beti ab nahi chahiye…

Haan mujhe yaad hai kiya wada tha…
Ek beta aur beti hogi hame uska irada tha…

Magar ab maine man badal diya…
Bahut samjh kar ye faisla hai liya….

Mujhe to bachcha bhi nahi chahiye…
Na manzoor ho to jaiye…..

Magar main ab hun faisla le chuka….
Khud ko hun wada de chuka….

Tum puchhti ho aisa kyun ?
Tum chahti ho main tumhe wajah dun….

To suno kya hai chal raha…
Mere zahan me kya pal raha….

Main nahi chahta meri phool si…
Ek sundar si koi beti ho…

Jise bade nazon se palun main….
Haule hathon se sambhalun main…

Aur ek din koi darnda use….
Utha le jaye aur noch de…. 

Main na sah sakunga is jurm ko…
Usi waqt mujhe jayega kuchh ho…

Aur beta nahi mujhe chahiye…
Jiski kisi ki beti par Buri nigah ho…

Jo ban jaye un haivanon sa… 
Jinse nafrat hun main kar raha…

Main na sun sakunga chikhe uski…
Main na har waqt nigrani rakh paunga…

Meri phool si bachchi ko kuchh hua…
Main jeete jee mar jaunga….

Ab tum kaho kya galat hun main…
Kisse ja kar main apna dar kahen…

Bas main hi nahi bahut log hain..
Jo beti paida hone se dar rahe hain …

Badi mushkil se pai pahchan thi…
In betiyon me ab aa rahi jaan thi….

Magar in haiwanon ne fir dara diya…
Betiyon ko shikar bana liya….

Ya fir hathiyar ab uthaun main…
Nyan ab kar jaun main….

Bhala kab tak chup baitha rahun…
Apna dar main ja ke kis se kahun…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here